5G को छोड़िए, ये जानिए कि 6G कब आ रहा है
5G को छोड़िए, ये जानिए कि 6G कब आ रहा है

इंडिया : दुनिया इतनी तेज हो गई है कि आज इंटरनेट के बिना काम चलाना संभव नहीं लगता इंटरनेट बीसवीं सदी की सबसे बड़ी खोजों में से एक है टेक्नोलॉजी ने बीते 20 साल में जिस तरह हमारी दुनिया को बदला है इतने बड़े बदलाव के लिए पहले शायद सदियों की जरूरत पड़ती इंटरनेट की दुनिया इतनी तेजी से बदल रही है कि 5G नेटवर्क अभी पूरी तरह आया नहीं है कि 6G पर काम शुरू हो गया है

तो आज हम भी बात करेंगे कुछ इंटरनेट की और जानेंगे कि कैसे फास्ट स्पीड इंटरनेट हमारी जिंदगी की जरूरत बन गया है इंटरनेट के बिना आज रोजमर्रा की जिंदगी की कल्पना करना भी मुश्किल है महामारी के दौर में तो यह बात और भी पुख्ता हो गई है जब पूरी दुनिया की जिम्मेदारी इंटरनेट के कंधों पर आ गई है दफ्तर का काम हो या फिर अहम मीटिंग बच्चों की पढ़ाई हो या फिर दोस्तों के साथ मुलाकात और गपशप या फिर टीका लगाने के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना हो सब कुछ वर्चुअल हो गया है वैसे महामारी से पहले भी हम वर्चुअल दुनिया में खूब गोते लगा रहे थे बातें भी हम इंटरनेट के जरिए करते हैं हमारे मनोरंजन का जरिया भी आज इंटरनेट है

दफ्तर का काम हम इंटरनेट के जरिए निपटा रहे हैं किराए पर बाइक या साइकिल लेनी हो ट्रेन, बस या एयरप्लेन का टिकट बुक करना सबके लिए इंटरनेट है इंटरनेट शॉपिंग का ठिकाना है इंटरनेट ही दोस्तों का अड्डा है आज सड़क पर चल रही कार में नेविगेशन सिस्टम हो या फिर सगरो में तैरते बड़े बड़े जहाज और आसमान में उड़ते विमान हर जगह टेक्नोलॉजी और हाई डाटा ट्रांसफर अहम् भूमिका निभाते हैं टेक्नोलॉजी और इंटरनेट के सहारे ही हमारे शहर भी स्मार्ट हो रहे हैं और हम इको फ्रेंडली भी बन रहे हैं डिजिटल होती दुनिया में ज्यादा से ज्यादा चीजें पेपर लेस हो रही हैं जब कागज कि मांग घटेगी तो जंगल भी सुरक्षित होंगे टेक्नोलॉजी और इंटरनेट पर हमारी निर्भरता लगातार बढ़ती ही जाएगी और इसी के साथ बढ़ानी होगी इंटरनेट की रफ्तार भी

क्या आप भी 6G के लिए तैयार हैं

हर जनरेशन का वायरलेस सेल्यूलर नेटवर्क पिछले जनरेशन के नेटवर्क से तेज होता है और अपने साथ नई नई संभावनाएं लेकर आता है 1G के साथ सेल फोन पर बात करना संभव हुआ तो 2G ने हमें कल फोन पर बात करने के साथ-साथ SMS भेजने की सुविधा दी 3G के साथ स्मार्टफोन और हम फिर फोन पर इंटरनेट चलाने लग गए और 4G के साथ तो मिली हमें और रफ्तार और हम ऑडियो वीडियो और फोटो ट्रांसफर करने लगे और अब आने वाला है 5G जो होगा सुपरफास्ट और ऑटोमेशन को करेगा आसान 5G का हम अभी तक भी इंतजार ही कर रहे हैं लेकिन क्या आप भी 6G के लिए तैयार हैं

यूरोपीय संघ में 6G नेटवर्क के लिए किया निवेश 

इंसानी दिमाग और किसी डिवाइस के बीच सीधा संपर्क वैज्ञानिक कहते हैं कि 6G के जरिए ऐसा संभव हो सकता है डाटा ट्रांसमिशन के नए मानक तैयार करने के लिए भविष्य के संचार तंत्र की बुनियाद रखी जा रही है 2030 तक 6G नेटवर्क 5G नेटवर्क की जगह लेगा लेकिन रुकिए क्या वाकई की बात हो रही है हम तो अभी तक 5G नेटवर्क का इंतजार कर रहे हैं यूरोपीय संघ में 6G नेटवर्क के लिए 1.8 अरब यूरो का निवेश होने की उम्मीद है कि 6G नेटवर्क 5G नेटवर्क के मुकाबले 50 गुना तेज रफ्तार से डाटा ट्रांसफर कर सकेगा जैसे की 6GB HD फिल्म LTE नेटवर्क में 50Mbps मेगाबाइट प्रति सेकंड की स्पीड से लगभग 17 मिनट में डाउनलोड होती है

वही 5G नेटवर्क में 100Mbps मेगाबाइट प्रति सेकंड की स्पीड से यह फाइल लगभग 8:30 मिनट में डाउनलोड होगी और 6G नेटवर्क में 1000Mbps मेगाबाइट प्रति सेकंड की सुपर स्पीड रफ्तार के साथ सिर्फ 51 सेकंड में डाउनलोड होगी सूची फिल्म देखना कितना आसान हो जाएगा अभी जो हम 4G नेटवर्क इस्तेमाल करते हैं वह 3G नेटवर्क के मुकाबले 10 गुना तेज है और जब 5G नेटवर्क आएगा वह 4G नेटवर्क के मुकाबले 1000 गुना तेज होगा इतनी रफ्तार से डाटा ट्रांसफर करने के लिए 5G ऊँची फ्रीक्वेंसी और बैंडविथ का इस्तेमाल करेगा 4G तक जितने भी नेटवर्क आए हैं

वह 700 मेगाहर्ट्ज से लेकर 6 गीगा हर्ट की फ्रीक्वेंसी में काम करते हैं जबकि 5G 28 से लेकर 100 गीगा हर्ट की फ्रीक्वेंसी में काम करेगा इसलिए इस बात को लेकर भी चिंता बनी हुई है कि 5G नेटवर्क पर चलने वाले डिवाइस इस पर जो रेडिएशन निकलेगा वह इंसान ही सेहत के लिए खतरनाक हो सकता है जर्मनी के 5G नेटवर्क  इंसानो की सेहत पर पड़ने वाले संभावित प्रभावों की छानबीन के आदेश दिए गए हैं वैसे ऐसी छानबीन पूरी दुनिया में होनी चाहिए क्योंकि हमारी सेहत से बढ़कर कुछ भी नहीं है

इसे भी पढ़े :- Google और Jio बनाएंगे सबसे सस्ता स्मार्टफोन !

इसे भी पढ़े :- Koo App ने पलटा Twitter का पासा मिल देशी App होने का फायदा !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here